विविध

तोर हीरा हिराइल बा किंचड़े में - कबीरदास

तोर हीरा हिराइल बा किंचड़े में।। टेक।।
कोई ढूँढे पूरब कोई पच्छिम, 

कोई ढूँढ़े पानी पथरे में।। 1।।

सुर नर अरु पीर औलिया, 
सब भूलल बाड़ै नखरे में।। 2।।

दास कबीर ये हीरा को परखै, 
बाँधि लिहलैं जतन से अँचरे में।। 3।।
--------------कबीरदास
अंक - 9 (11 जनवरी 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.