मैना: वर्ष - 2 अंक - 9

आज हम रऊआँ सभ के सोझा मैना कऽ नऊवाँ अंक ले के हाजिर बानी। एह अंक में दू गो रचनाकारन कऽ रचना सामिल बाड़ी सऽ। एगो गजल तऽ दोसरका निरगुन हऽ।

- प्रभुनाथ उपाध्याय
-----------------------------------------------------------------------------------------------


चुप रहल अब त कठिन बा, कह दिहल बहुते कठिन
अइसन कुछ बात बा, बाटे सहल बहुते कठिन॥

एह घुटन में के रही, कइसे रही ए यार अब
एह फिजाँ में हो गइल साँसो लिहल बहुते कठिन॥

लाज के बा लाज लागत आज के माहौल में
बेहयाई के लहर में अब रहल बहुते कठिन॥
----------------------------------------------------------------------------------------------
तोर हीरा हिराइल बा किंचड़े में।। टेक।।
कोई ढूँढे पूरब कोई पच्छिम, 
कोई ढूँढ़े पानी पथरे में।। 1।।
सुर नर अरु पीर औलिया, 
सब भूलल बाड़ै नखरे में।। 2।।
----------------------------------------------------------------------------------------------
(11 जनवरी 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.