ओकरे भएस - शैलेन्द्र कुमार साधु

घर -घर नाली, घर-घर गएस
जेकर लाठी, ओकर भएस।

बनी पकऊरा, बनी चाय
इसकुल कउलेज, भाड मे जाए।

छोट आमदी मे , मन के बात
उधोग पति मे, धन के बात।

घर -घर सेपटीक ,बोतल जाए
भरपेट खाना ,केहू ना खाए।

आपन वेतन , खुब बढाई
कर्मचारी मांगे तबआख दिखाईं। 

जारी रख, आपन तु पेन्सन
दोसरे के दअ , तु खुबे टेन्सन।

बाह रे शासन , तहार गजबे खेल।
न्याय मंगनी त, कईलख जेल।

होत गलती मे, "साधु जी"बोलले।
कुदी के इ , परदा खोलले।
-------------------
शैलेन्द्र कुमार साधु 
पं० महेन्द्र मिश्र के मिश्रवलिया 
जलालपुर, सारण, बिहार 
संपर्क- ९५०४९७१५२४




मैना: वर्ष - 7 अंक - 118-119 (अप्रैल - सितम्बर 2020)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.