हाइकु - कनक किशोर

बाबू बिमार
दवाई आइल ना 
कबले जीहें।1।
*****
घर जमाई 
ससुरारे बसले 
माथा प घूर।2।
*****
सावन भादो 
दिन बरसात के 
धान रोपाई।3। 
*****
झुला कजरी 
हरि जी के झुमर 
रोज गवाई।4। 
*****
खेत बधार 
चूहू चूहू हरियर 
खुश किसान।5। 
*****
भादो के रात 
कुचू कुचू करिया 
सुझे ना राह।6। 
*****
बाजन बाजे 
दुअरा पर आज 
काली पूजाई।7। 
*****
बाते पे बात 
बतंगड़ भइल 
बिना बात के।8। 
*****
गाय बेचके 
कुत्ता किनाईल बा 
नया रिवाज।9। 
*****
राम मंदिर 
वोट के राजनीति 
कबले चली।10। 
*****
धोती गमछा 
भोजपुर के शान 
खुब फबेला।11। 
*****
पारंपरिक 
सब रीत रिवाज 
साँची से बाची।12। 
*****
मुफ्त के माल 
झुठा शान बखान 
कबले चली।13। 
*****
हम किसान 
अन्न के दाम बिन 
भूखे मुअब।14। 
*****
हम किसान 
मौसम प्रतिकुल 
सुझे ना कुछ।15। 
----------------
कनक किशोर








मैना: वर्ष - 7 अंक - 118-119 (अप्रैल - सितम्बर 2020)

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.