तपसी के जीवन तप के ह - विद्या शंकर विद्यार्थी

जात बाड़े सिरी रघुनंदन गाँव त्याग के जात बाड़े 
हृदय हृदय ना दरकल हृदय से लाग के जात बाड़े 

बीच में सीता बाड़ी सुनैनी सह ना घाम पावत बाड़ी 
राहके कांट से पाँव बचावत पीछा पीछा आवत बाड़ी

उनुका पीछे लछुमन बाड़े सजग सजग चलत चाल 
पेरे के तऽ माई ई पेरली संगे संगे पेरले बा ई काल

राम के ई इयाद आवता भरत अबहीं होइहें ननिहाल 
अइहें त बात समझिहें ना करत जइहें सवाल सवाल 

जात बाड़े सिरी रघुनंदन गाँव बिसार के जात बाड़े 
माटी बियोग सतावता माटी के निहार के जात बाड़े 

मन कबो दाबवता आ मन के दबावत के जात बाड़े
अकबकवता के दबावत आ दबावत के जात बाड़े

का दबाई संकल्प के ऊ ना विकल्प आउर जहँवा 
तपसी के जीव तप के ह ना विकल्प आउर जहँवा 

सांझ के झोली परते परते मन ठहरे के बन गइल 
गाँव के कुल्ही इयाद त्याग मन ठहरे के बन गइल।
---------------------------
लेखक परिचयः
C/o डॉ नंद किशोर तिवारी
निराला साहित्य मंदिर बिजली शहीद
सासाराम जिला रोहतास ( सासाराम )
बिहार - 221115
मो 0 न 0 7488674912

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.