शंका - विद्या शंकर विद्यार्थी

भोर होते लाली लउकल आउर जनाइल आवत लोग 
मन शंका होखे लागल कहँवा हफनाइल आवत लोग 

माथे पगरी कान्हे गमछी बा केहू के हाथे लाठी बा
बड़ बा छोट बा छोट बा बड़ बा केहू एके काठी बा

धूरी माटी में भोरे से चलल गोड़ के हाल बता देलस 
जानल लोग सभे रहे ना, रहे से आपन पता देलस ।
---------------------------
लेखक परिचयः
C/o डॉ नंद किशोर तिवारी
निराला साहित्य मंदिर बिजली शहीद
सासाराम जिला रोहतास ( सासाराम )
बिहार - 221115
मो 0 न 0 7488674912

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.