गाँवे में रावन गाँवे में राम बाटे - विद्या शंकर विद्यार्थी

गाँवे में रावन त गाँवे में राम बाटे 
दूनों में जुद्ध सुबह आ शाम बाटे।

गाँवे में कैकयी माई बाड़ी अबो 
भरत बाड़े आ भरत के नाम बाटे।

भरत के कुटिया आ आस्था बा 
कुश के चटाई करेके आराम बाटे।

उर्मीला बाड़ी उनुकर त्याग बा
लछुमन के भावना निष्काम बाटे।

राम के संगे सीता बाड़ी, तिरिया 
नारी के उतम में उतम नाम बाटे।

शील से शीलता गुन से गुनता बा
अशिष्टता के हार काम तमाम बाटे।
---------------------------
लेखक परिचयः
C/o डॉ नंद किशोर तिवारी
निराला साहित्य मंदिर बिजली शहीद
सासाराम जिला रोहतास ( सासाराम )
बिहार - 221115
मो 0 न 0 7488674912

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.