रमजान - नूरैन अंसारी

हर साल में महज एक बार आवेला रमजान!
संगे सनेश भाईचारा के ले आवेला रमजान!

मिटावेला इ ह्रदय से सगरी क्रोध-किना-कपट के,
जिनगी सादगी से जिए के सिखावेला रमजान!

बरखा हरदम पुण्य के होला ये पवित्र महिना में,
सुख-समृधि के सबके घर भेजवावेला रमजान!

झूम उठे ली धरती मईया,रोजदारन के इबादत से,
ईश्वर के चौखट तक सबकर दुआ पहूंचावेला रमजान!

इयाद दिलावेला हमनी के भूख से लाचार लोगन के,
उ सब के दर्द के अपना भाषा में समझावेला रमजान!
-------------------------
लेखक परिचय:-
नोएडा स्थित सॉफ्टवेयर कंपनी में प्रोजेक्ट मैनेजर
मूल निवास :ग्राम: नवका सेमरा
पोस्ट: सेमरा बाजार
जिला : गोपालगंज (बिहार)
सम्पर्क नम्बर: 9911176564

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.