जहाँ खाली प्यार मोहब्बत होखे शैतानी ना होखे - डॉ. हरेश्वर राय

उ घर घर ना ह जवना प कवनों छानी ना होखे
उ नैन कइसन जवना में कवनों पानी ना होखे।

दाम्पत्य के देवाला निकले में इचिको देर ना लागे 
त्याग-समर्पन के राही जदि दुनों परानी ना होखे।

दिल के अइसन सिंघासन के का मतलब हरेश्वर 
जवना प बइठल कवनों रानी-महरानी ना होखे।

ओह जिनिगिया के कीमत दू कौड़ी के रहि जाला
जवना में चानी काटे के कवनों कहानी ना होखे।

अब चलीं सभे चलीं जा एगो नया नगर बसाईं जा
जहाँ खाली प्यार मोहब्बत होखे शैतानी ना होखे।
-------------------------
लेखक परिचय:-
प्रोफेसर (इंग्लिश) शासकीय पी.जी. महाविद्यालय सतना, मध्यप्रदेश
बी-37, सिटी होम्स कालोनी, जवाहरनगर सतना, म.प्र.,
मो नं: 9425887079
royhareshwarroy@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.