घटिया पर दीयना जरइले बानीं - विद्या शंकर विद्यार्थी

घटिया पर दीयना जरइले बानीं ए माई
आईं आईं आईं रउरा दया करीं आईं

भूखिया पिअसिया आ नेहिया में बानीं
अब तक अँचरिया हो खाली लेले बानीं
दसो नोह जोरी के रउरा के गोहराईं। आईं...॥

ताना लेईके जिनगी जीएला भला केहू
हुकी हुकी के लोरवा पीएला भला केहू
कब तक दरदिया के सुसुकि दबाईं। आईं....॥

लाखीं लाज बरति के दुनिया अन्हार बा
माई माई कही के केहू ना बोलनहार बा
बिनती में बोलत बानीं दुख पतिआईं। आईं..॥

जलवा के रहिया से होला काहे देर हो
थोरिके बिनितिया के समुझऽ ना ढेर हो
सभका घटिया जाईंला त हमरो हो आईं। आईं....॥
----------------------------
लेखक परिचयः
नाम: विद्या शंकर विद्यार्थी
C/o डॉ नंद किशोर तिवारी
निराला साहित्य मंदिर बिजली शहीद
सासाराम जिला रोहतास (सासाराम )
बिहार - 221115
मो. न.: 7488674912

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.