जमाना बा बैरी - विद्या शंकर विद्यार्थी

जमाना बा बैरी जीए नाहीं देला
जुदाई के आँसू पीए नाहीं देला।

सांसत में डाल देला दे हलकानी
बिहरल करेजा सीए नाहीं देला।

हुके के कर देला छछने के बेसी
देले अगहूँ बा अभिए नाहीं देला।

बाँचे के परता स्वाँचे के जिनगी
खुसी के अंश बकिए नाहीं देला।

विद्या के कबहूँ लगा के कहेला
गम में ना मुए जीए नाहीं देला।
----------------------------
लेखक परिचयः
नाम: विद्या शंकर विद्यार्थी
C/o डॉ नंद किशोर तिवारी
निराला साहित्य मंदिर बिजली शहीद
सासाराम जिला रोहतास (सासाराम )
बिहार - 221115
मो. न.: 7488674912

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.