बिहार के मातारी - विद्या शंकर विद्यार्थी

पीरे ऊपर पीर बा बोआइल
अँखिया के नीर ना ओराइल।

चहकल चिरइया गोदिया के छिनलस
माई के ममतवा ना दुधवा के चिन्हलस
सुती गइल बबुआ बोखराइलऽ अँखिया।

बीरो ना बेरामी हरलस अगिया बुतवलस
कौनो साल ना असो अस सरधा सुखवलस
मरलस ना तीर ना चोखाइलऽ अँखिया।

वोटवे के बेजी केहू चाची कहे आवेला
माटी के इयाद देला माटी के बतावेला
हमार कबरल पौधा सोराइल। अँखिया।

बहुते बिहार के मतारी अँसुआ पोछली
उमड़ल वेदनवा में अपना के गोतली
चोटे ऊपर चोट बा बोझाइल अँखिया।
---------------------------------------
Vidya Shankar Vidyarthi विद्या शंकर विद्यार्थीलेखक परिचयः
नाम: विद्या शंकर विद्यार्थी
C/o डॉ नंद किशोर तिवारी
निराला साहित्य मंदिर बिजली शहीद
सासाराम जिला रोहतास (सासाराम )
बिहार - 221115
मो. न.: 7488674912

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.