मत अगराईं - कवीन्द्र नाथ पाण्डेय

जरत जीनगी के
भला अंजोर कइसन
पुअरा के आग
जाड़ा के भोर जइसन।

मत अगराईं
दूज के चांद देखिके
गरहन छीनेला पुनवासी के
अंजोर कइसन।

दहकत दिन के दुपहरिया
निमन ना लागे
मनवा साध के बचाइं
कछुआ गमखोर जइसन।

बुद्धि बांटेले कविन्द्र
दोसरा लोगवा के।
आपन बेरिया दशा होला
मतिभोर अइसन।
--------------------------

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.