टिकुलिया रे तोर जोतिया बा सोना - विद्या शंकर विद्यार्थी

सँवरिया के दिहल ह सेनुरवा के दोना
टिकुलिया रे तोर जोतिया बा सोना।

मड़वा में फेरा परल अगिनिया के लेके
हथवा में हथवा बचनिया के देके
हिया में समाइल जाता प्रितिया के चोन्हा। टिकुलिया...

अँखिया लागे तऽ भोरे में सुगबुगाला
दरपन के सोझा भइला पऽ ई बुझाला
जगह देले बउए अँखिया-अँखिया के कोना। टिकुलिया...

मनवा नू मनवा में बतिया नू होला
तरे-तरे अगराला नित मिले ओला
मोतिया के दनवा बउए धगवा पिरोना। टिकुलिया...

कगवा अँगनवा में बोलेला मुड़ेर पर
आवेलन सजनवा रे गाँव के डँड़ेर पर
रहिया बटोहिया में उन्हुका बाटे होना। टिकुलिया..
---------------------------------------
लेखक परिचयः
नाम: विद्या शंकर विद्यार्थी
C/o डॉ नंद किशोर तिवारी
निराला साहित्य मंदिर बिजली शहीद
सासाराम जिला रोहतास (सासाराम )
बिहार - 221115
मो 0 न 0 7488674912

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.