मरजीवा - दिनेश पाण्डेय

एगो गाँव।
पुरना नीम के ठूँठ,
कँटइली झूँटी,
तकरो ओपार।
रखि ल कवनों नाँव।

ओजा सँझवत के बेरा में,
ओरी के नीचे आ धूँआ के घेरा में
चूल्हा जरा के
बइठलि बहुरिया हव
घूघा गिरा के।
बेरि-बेरि मँइसे से अँखिया पिराला।
खाटी प पीट-पीट
रोवे नन्दलाला।

बइठल मँचोली प
ओसरी में बूढ़ऊ
जाँगर बिटियवा के ब्याहे के फिकिर में
जिनिगी जरावत बा,
काल के हरावत बा।
चिलिम प धूँटघूँट,
कँउची त पीअता।
कइसे त जीअता।
--------------------------------
दिनेश पाण्डेय


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.