शहीद पुत्र के गोहार - दिलीप कुमार पाण्डेय

उठऽ उठऽ
ए बाबू
मुंह आपन खोलऽ!
तहार सोनु
हईं हम
कुछ त बोलऽ!!

लोग
माई के चुड़ी
फोड देलस!
ऊठ के देखऽ ना
ओकर मांग
धो देलस!!

तूं काहे
मौन बारऽ
लोगन के बरेजऽ।
माई बिआ
बेहाल भईल
ओकरा के सहेजऽ॥

ना चाहीं धन
ना चाहीं
पईसा के बोझा।
सरगऽ के
मिली सुख
रहऽ खाली सोझा॥

हे! भगवान
जगा दिहीं
बाबू के आई!
रोअत-रोअत
मर जाई
ना त हमार माई!!
-------------------------------------------
शहीद पुत्र के गोहार - दिलीप कुमार पाण्डेयलेखक परिचय:-
नाम - दिलीप कुमार पाण्डेय
बेवसाय: विज्ञान शिक्षक
पता: सैखोवाघाट, तिनसुकिया, असम
मूल निवासी -अगौथर, मढौडा ,सारण।
मो नं: 9707096238

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.