उहे करजा बाँटेला - मिर्जा खोंच

जेकरा पइसा काटेला
उहे करजा बाँटेला।

उ नेता ह ओकर का?
थुकेला आ चाटेला।

दीवाना ह औरी का
दुःख खाई पाटेला।

बड़का गलती कर कर के
अनका मुड़ी साटेला।

उनकर कविता सुन सुन के
आपन करेजा फाटेला।

"मिर्जा" महतारी के पाछा
दुःख के रहिया काटेला।
---------------------------------
मिर्जा खोंच
साभार: भोजपुरी जिनगी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.