वृत्त वाला खेत - केशव मोहन पाण्डेय

सबसे उपजाऊँ
सबसे सयगर
टोला के उत्तर
गंडक के कछार में
दूर-दूर ले विस्तारित बा
वृत्त वाला खेत के
चौकस
लहलहात स्वरुप।

सभे मन से जुट जाला
एके जोते, कोड़े, बोये में
एकर विस्तार
कबो मनई विहीन ना रहेला
केहू ना केहू
कवनो ना कवनो
डँड़ार के बीचे
लउकीए जाला
कुछु सोहत
कुछु बोअत
असरा के चादर ओढले
उम्मीद के खुर्पी से
भय के मोथा।

ई वृत्त वाला खेत
भर देला घर
अन्न से
आ अन्न भरला पर
धनों भर जाला
सबका घर के
कइगो पीड़ा हर जाला।

बेटी के बियाह से ले के
लइका के पढ़ाई ले
ई वृत्त वाला खेत
के कारने
हो जाला सगरो व्यवस्था
तैयार हो जाले साहूकार
छन्ने भर में
पइसा देबे खातिर
ई वृत्त वाला खेत के
रेहन राखि के।

बाकिर एक बेर
मेटा गइल
नामो-निशान
जब भइल कटान
तब वृत्त वाला खेत
गंडक के पेट में समा गइल
सचहूँ,
सभे गमा गइल।
-----------------------------------------------
लेखक परिचय:-
नाम - केशव मोहन पाण्डेय
2002 से एगो साहित्यिक संस्था ‘संवाद’ के संचालन।
अनेक पत्र-पत्रिकन में तीन सौ से अधिका लेख
दर्जनो कहानी, आ अनेके कविता प्रकाशित।
नाटक लेखन आ प्रस्तुति।
भोजपुरी कहानी-संग्रह 'कठकरेज' प्रकाशित।
आकाशवाणी गोरखपुर से कईगो कहानियन के प्रसारण
टेली फिल्म औलाद समेत भोजपुरी फिलिम ‘कब आई डोलिया कहार’ के लेखन
अनेके अलबमन ला हिंदी, भोजपुरी गीत रचना.
साल 2002 से दिल्ली में शिक्षण आ स्वतंत्र लेखन.
संपर्क –
पता- तमकुही रोड, सेवरही, कुशीनगर, उ. प्र.
kmpandey76@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.