नाचे नि‍रखि-निरखि दरपनवाँ में - हरिराम द्विवेदी

पवना बेनियाँ डोलावे, बदरा रस बरसावै
गावै झूम झूम मनवाँ सिवनवाँ में
नाचै निरखि-निरखि दरपरनवाँ में।

भिनसहरे जँतसार गीत कै बोल करेज करोवै
जइसे केहू पइठ के भित्तर लगै हियरवा टोवै
माटी सगुन जगावै, भरि नेह दुलरावै
पावे सुखवा जोगवले परनवाँ में
नाचे निरखि-निरखि दरपनवाँ में।

बिहने भुइयाँ उतरि किरिनियाँ अँचरा लगै पसारै
तनै उमिर कै ताना-बाना जिनगानी पुचकारै
सगरो पसरै अँजोरिया, कत्तों रहै न अन्‍हरिया
रेंगै लागैला असरवा अँगनवाँ में
नाचे निरखि-निरखि दरपनवाँ में।

मचियाँ बइठे आजी लेके छोढ़ी चलै कमोरी
देखतै बने दुलार धरै जब लैनू काढ़ि गदोरी
जियआ अस कै लोभाला, किछु कहलो न जाला
सुख सरगे क उतरै भवनवाँ में
नाचे निरखि-निरखि दरपनवाँ में।

गहबर पियरी पहिर खेत में खड़ी फसिल गदराइल
सबही के मन टटकी टटकी साध लगै अँखुआइल
कइसन सपना सजोवैं, केतनी मनियाँ पिरोवैं
झाँकि-झाँकि रहैं अपने अयनवाँ में
नाचे निरखि-निरखि दरपनवाँ में।

पाखे के खोता में बइठ गावै सोन चिरइया
घुटुरुन ढुरकत देखिबकइयाँ भरि जाले अँगनइया
संझा कहनी कढ़ावै, रतिया लोरी सुनावै
ममता निदिया बलावै नयनवाँ में
नाचे निरखि-निरखि दरपनवाँ में।
--------------------------------------
लेखक परिचय:-
नाम: हरिराम द्विवेदी
जन्म: 12 मार्च 1936
जन्म स्थान: शेरवा, मिर्जापुर, उत्तरप्रदेश
परमुख रचना: अँगनइया, पातरि पीर, जीवनदायिनी गंगा,
साई भजनावली, पानी कहे कहानी, पहचान, नारी, रमता जोगी,
बैन फकीर, हाशिये का दर्द, नदियो गइल दुबराय
सम्मान: साहित्य अकादेमी भाषा सम्मान,
राहुल सांकृत्यायन पुरस्कार (उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान द्वारा),
साहित्य भूषण (उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान द्वारा),
साहित्य सारस्वत सम्मान (हिंदी साहित्य सम्मलेन, प्रयाग) तथा अन्य

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.