औचक डंका पड़ी मन में कर होशियारी हो - दरसन दास

औचक डंका पड़ी मन में कर होशियारी हो।
काल निरंजन बड़ा खेलल बा खेलाड़ी हो।।

सुर नर मुनी देवता लो के मार के पछाड़ी हो।
ब्रह्मा के ना छोड़ी वेद के विचारी हो।।
शिव के ना छोड़ी जिन वेद के बिचारी हो।।

शिव के ना छोड़ी जिन बइठल जंगल झाड़ी हो,
नाहीं छोड़े सेतरूप, नाहीं जटाधारी हो।
राजा के ना छोड़ी, नाहिं प्रजा भिखारी हो।।

मोरहर देके बान्ही जमु पलखत देके मारी हो।
बिधि तोहर बावँ भइल तू देल प्रभु के बिसारी हो।।
कहे दरसन तोहे जुगे-जुगे मारी हो।।
--------------------------------

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.