अझुरा - मोती बी.ए.

अझुराई
तबे नू सझुराई
अझुरइबे ना करी कुछू
त कवन चीज केहू सझुराई!
जवन चीज कबों अझुरइबे ना करी
आ हरदम सझुरइले रही
त ओकर अझुराइल-सझुराइल बराबरे ह
ओकरा खातिर-अझुरा सझुराह, सझुरा अझुरा
जेइसने अझुराइल
ओइसने सझुराइल
-----------------------------------
मोती बी.ए.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.