लोकतंत्र के मानी ई बा - धरीक्षण मिश्र

कथनी पर करनी फेरात नइखे,
दिमाग गरम रह ता कबो सेरात नइखे,
हर के दुगो बैल कइसे मान होइहें सन
जब एगो बुढ़ गाई घेरात नइखे

लोकतंत्र के मानी ई बा,
लोकि, लोकि के खाईं
जिन गिरला के आशा करिहें,
हाथमलत पछताई ए भाई,
अइसन राज ना आई।
---------------------------------------

Dharikhan Mishra, भोजपुरी कविता, भोजपुरी साहित्य, भोजपुरी साहित्यकोश, Bhojpuri Poem, Bhojpuri Kavita, Bhojpuri Sahitya, Bhojpuri Literature, Bhojpuri Sahityakosh, Bhojpuri Magazine, भोजपुरी पत्रिकाधरीक्षण मिश्र
जन्म: 1901, बरियापुर, कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
मरन: 24 अक्तूबर 1997, बरियारपुर, कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
भाषा: हिंदी, भोजपुरी
विधा : कविता
रचना: धरीक्षण मिश्र रचनावली (चार खंड), शिव जी के खेती, कागज के मदारी, अलंकार दर्पण, काव्य दर्पण, काव्य मंजूषा, काव्य पीयूष
सम्मान: अंचल भारती सम्मान, भोजपुरी रत्न अलंकरण, श्री आनंद सम्मान, गया प्रसाद शुक्ल ‘सनेही’ पदक, प्रथम ‘सेतु सम्मान’, भोजपुरी रत्न 




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.