देशवा के शान मोर तिरंगा - लाल बिहारी लाल

देशवा के शान मोर तिरंगा हो भइया
दुनिया में भारत के पहचान हो भइया
देशवा के शान मोर तिरंगा हो भइया.......

केसरिया रंगवा बलिदान के निसानी
नीचवा से हरिअर धरती के कहानी
बीचवा में चक्र, गति के,निसान हो भइया...
देशवा के शान मोर तिरंगा हो भइया.......

जान से बढ़के बा प्यारा हो भइया
जेकर रक्षा करे ले सेना के भइया
जन-जन के हs ई अभिमान हो भइया
देशवा के शान मेर तिरंगा हो भइया.......

तिरंगा के ओर केहूँ आँख जे देखाई
ओकर पल भर में हम करब दवाई
झूके ना देहब आपन शान हो भइया
देशवा के शान मोर तिरंगा हो भइया.......

लाल बिहारी लाल ई करेले निहोरा
रक्षा करब चाहे जाई जान मोरा
हर भारती के ई हे अऱमान हो भइया
देशवा का शान मोर तिरंगा हो भइया
देशवा के शान मेर तिरंगा हो भइया.......
-------------------------------------
लेखक परिचय:-
नाम: लाल बिहारी गुप्ता 'लाल'
जन्म: 10 अक्टूबर 1974
जनम थान: ग्राम+पो. श्रीरामपुर, भाया - भाथा सोनहो,
जिला - सारण (छपरा), बिहार-841460
शिक्षा: स्नातकोत्तर (हिन्दी)
सम्प्रति: वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय, उद्योग भवन, नई दिल्ली में कार्यरत
संपादित कृतियाँ: समय के हस्ताक्षर (2006), लेखनी के लाल (2007), माटी के रंग (2008), धरती कहे पुकार के (2009), हिन्दी साहित्यिक पत्रिका “साहित्य त्रिवेणी” क पर्यावरण विशेषांक क संपादन (2011)
संस्थापक सचिव, लाल कला साहित्य एवं सामाजिक चेतना मंच (रजि.) बदरपुर, नई दिल्ली-110044
भोजपुरी गीतन कऽ आडियो अउरी विडियो
बिहार के दो विश्वविद्यालयन कऽ स्नातक तथा स्नातकोतर में भोजपुरी कविता
संपर्क: 265 ए / 7, शक्ति विहार, बदरपुर, नई दिल्ली - 110044
फोन: 098968163073 // 07042663073
ई-मेल: lalbihari74@gmail.com, lalkalamunch@rediffmail.com,
बलाँग: lalbihariilal.blogspot.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.