हे मन रामनाम चित धौबे - भीखा साहब

हे मन रामनाम चित धौबे।।

काहे इतउत धाइ मरत हव अवसिंक भजन राम से धौबे।
गुरु परताप साधु के संगति नाम पदारथ रुचि से खौबे।।

सुरति निरति अंतर लव लावे अनहद नाद गगन घर जौबे।
रमता राम-सकल घर व्यापक नाम अनन्त एक ठहरौबे।।

तहाँ गये जगसों जर टूटत तीनतान गुन औगुन नसौबे।
जन्मस्थान खानपुर बोहना सेवत चरन भिखानन्द चौबे।।
----------------------------------------------------------
Bhikha Sahab, भोजपुरी कविता, भोजपुरी साहित्य, भोजपुरी साहित्यकोश, Bhojpuri Poem, Bhojpuri Kavita, Bhojpuri Sahitya, Bhojpuri Literature, Bhojpuri Sahityakosh, Bhojpuri Magazine, भोजपुरी पत्रिका, Maina, ंमैनाभीखा साहब

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.