जा बरखा - सत्यनारायण मिश्र ‘सत्तन'

सूतल सपना, सोच सिर्हाने
जा बरखा अब खेत सुखाने।

पल-पल पीटत, पर, पलुवार,
बीपत, बिटियन क बढ़वार
गर-गर गरत पसीना पीठि
सर-सर सरकत चढ़त कपार
लागल, थसमस होस, ठेकाने।

मुंह फेरि अंहुई अंहुआय
आंखिन आई असाढ़ समाय
चूल्हि चुहानी करै उपसा
खाइल-पीयल परे पराय
बिरथा, बिनती थान्ह-पवाने।

बाउर बखत बड़ा बरियार
जग अनगैया, कहां चिन्हार
हितई गईल, नतैती लोप
बनले पर त, बहुत इयार
के तर दिन बहुरत, का जाने।
---------------------------------------------------

सत्यनारायण मिश्र ‘सत्तन'

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.