पनिया में डूबल बा - निशा राय

पनिया में डूबल बाटे
गलिया,सड़किया,त
गाँव के परधान के
दुवरवा भरात बा।

आ इन्दरा आवास
योजना के अन्तरगत
उनका गइया,भइसिया
के छप्पर छवात बा।

ग्राम सड़क योजना में
मन्तरी के सन्तरी के
भाई भतीजा भगिना
के बिल्डिंग पिटात बा।

आ आंगनबाड़ी केन्द्र के
बा हाल त बेहाल बाकिर,
एकरा से जुड़ल
सब लोग खुशहाल बा।

लइकन के पोसाहार से
गइया पोसात बीया
आइरन के गोली अब
भइसियन के दियात बा।

कोटा के तेल
बिक जात बा
बजरिया में
गाँव के गरीबन के त
पानिये बटात बा।

करी जे विरोध
उ पहुँचावल जाई थाना पर
केहू के करनी
केहू के मूड़ी पर मढ़ात बा।

करब चापलूसी त
सवर जाई सात पुश्त
एही में त सबका अब
फायदा बुझात बा।

आवता चुनाव फेर
गीराताटे इटा गिट्टी
आ फेर जीत जइहे
इ हमरा बुझात बा।।

पनिया में डूबल बाटे
गलिया सड़किया
त गाँव के परधान के
दुवरवा भरात बा।।
-------------------------------------------------------
लेखक परिचय:-
नाम: श्रीमती निशा राय
पता: रामअवध नगर
पो.-जंगल चौरी,खोराबार
जि.- गोरखपुर,पिन-273010
उत्तरप्रदेश
मो न.: 8542898686
mail-rainisha29.nr@gmail.com

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढिया ।
    पढ के मजा आ गईल ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप कै ई रचना बहुतै सुंदर, सार्थक और समसामयिक बा। भावपक्ष,कलापक्ष और शब्दशिल्प उत्तम कोटि कॅ हौ।

    उत्तर देंहटाएं

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.