विविध

चारो ओर अन्हरिया - गोपालजी ‘स्वर्णकिरण’

भाषा, भोजन, भुजा कि भाषण के सवाल के खोंप,

कइसे मानीं ई सब ह खट्टा अंगूर के झोंप।

आलस के केंचुल, माथा पर छतराइल अभिशाप
भोथराइल जे बान का करी चढ़िए के ऊ चाप।

फूट गइल ई आँख बिछाईं कब तक इनका के हम
असगुन, आशा, सगुन कि कइसे होखे मनवाँ पेहम?

चारो ओर अँधेरा, कहवाँ तनिको कहीं अँजोर?
माया, दया, त्याग, करुणा ना, खुदगर्जी के जोर।
---------------------------------------------

लेखक परिचय:-


नाम: गोपालजी ‘स्वर्णकिरण’
जनम: 16 मार्च 1934
जनम थान: आरा, भोजपुर, बिहार
परमुख रचना: चारो ओर अन्हरिया, ले के ई लुकार हाथ में, सँझवत आदि 
अंक - 83 (7 जून 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.