संपादकीय

खेवनहार - गंगाशरण शर्मा

जे झूठ के सांच,

आ सांच के झूठ
आडंबर के सादगी
क्रूरता के दया
करिया के उज्जर 
में बदलल जानेला
जोसीला भासन से 
गरीब के रोटी
मजदूर के झोपड़ी
धर्म के देवाल
जात के जहर 
सम्प्रदायिक आगि में 
समाज के जरावल जानेला 
जे दउलत के,
सोहरत के
नैतिकता के
काला बाजार में
सफाई से बेचे जानेला
इंसानियत के भूलि के 
धर्माधता फइला के
देस के इज्जत माटी में
मिलाई के
आदर्श आ सिद्धांत पर 
गोली चलाई के 
बनल चाहे खुद मुख्तार
आज उहे नेता बनल बा 
देश के नाव के 
खेवनहार !
-----------------------

लेखक परिचय:-


नाम: गंगा शरण शर्मा
पता: द्वारा दुर्गा मेडिकल स्टोर्स
झरिया चार नंबर
पो. झरिया, जिला धनबाद 
झारखंड - 828111
मो. 9431731041
लेखक हिंदी, भोजपुरी के लब्धप्रतिष्ठित हस्ताक्षर बानी. 
समाज में हो रहल बलाव पर यहां के लेखनी गजब स्याही उगले ले.
अंक - 57 (8 दिसम्बर 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.