गुजरिया लजा गइलीं हों - जयशंकर प्रसाद द्विवेदी

पह फटते किरीनिया दुलराइल
गुजरिया लजा गइलीं हों॥

छूटि गइलें घरवा
छुटल नइहरवा हो।
सइयाँ पर अपने मोहा गइलीं
रस बरिसा गइलीं हो॥

मइया के मिसरी अस बोलिया
भतीजवा के ठिठोलिया हो ।
सइयाँ पर अपने लुटा गइलीं
भोरही शरमा गइलीं हो॥

सुधिया के सुघर बिछवना
मइया क खेलवना हो।
बबुआ के आगु सभ भुला गइलीं
नेहिया लगा गइलीं हो॥

पह फटते किरीनिया दुलराइल
गुजरिया लजा गइलीं हों॥
----------------
लेखक परिचय:-
इंजीनियरिंग स्नातक;
व्यवसाय: कम्पुटर सर्विस सेवा
सी -39 , सेक्टर – 3;
चिरंजीव विहार , गाजियाबाद (उ. प्र.)
फोन : 9999614657
ईमेल: dwivedijp@outlook.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.