धरीक्षण मिश्र के तीन गो कविता

लोकतंत्र के मानी ई बा

कथनी पर करनी फेरात नइखे,
दिमाग गरम रह ता कबो सेरात नइखे,
हर के दुगो बैल कइसे मान होइहें सन
जब एगो बुढ़ गाई घेरात नइखे

लोकतंत्र के मानी ई बा,
लोकि, लोकि के खाईं
जिन गिरला के आशा करिहें,
हाथमलत पछताई ए भाई,
अइसन राज ना आई।
---------------------------------------

बुद्धि के बढ़ती

दोसरा के घर जरा के हाथ के सेंकले न बा ।
के आन का शुभ कीर्ति पर कीचड़ कबें फेंकले न बा॥

कहें हीरा चन्द ओझा चन्द कवि पृथिराज का -
दरबार में रहले कहीं इतिहास में लिखले न बा।

सन और सम्बत झूठ बा घटना सजी बेमेल बा
साँच कवनों बात रासों में कहीं बटले न बा।

का साँच बा का झूठ बा ई के इहाँ निर्णय करो
जब कि ओ पृथिराज के दरबार केहु देखले न बा।

एक बात जरूर बा हम कहबि ढोल बजाइ के
आजु ले ओझा कहीं केहु साँच कुछ भखले न बा।

आचार्य केशव दास पर बड़थ्वाल जी बानीं भिड़ल
मानों इहाँ खातिर कहीं मजमून कुछ अँटले न बा।

शुक्ल जी लिखनीं कि केशव का रहे ना कवि हृदय
जे जौन चाहो कहो तवने मुँह केहू छेंकले न बा।
------------------------------------------

कुशीनगर में छबि सज नवरी

विद्यालय के भवन सुहावन
बौद्ध तीर्थ के पुरवा पावन।
देवरिया से कवि सब आइल।
पूरा उन्चासे कम बावन।
एक आध के कमी परे त
हम के एगो गनि लीं अवरी।
कुशीनगर में छबि सज नवरी॥

अवर कविन के कविता होई
षट रस के ऊ रही रसोई।
तींत मीठ जब जइसन लागी
श्रोता लोग हँसी भा रोयी।
ऊपर से हमार कविताई
दालि भात पर रही अदवरी।
कुशीनगर में छबि सज नवरी॥

केहु कवि अल्प दृष्टि अपनायी
दूर दृष्टि से ना लखि पायी।
केहु अतिसार ग्रहणिये होईं
केहु मिल जुल पित के दुख रोई।
केहु के अन्तरदाह सतायी
आधा सीसी काम न आयी।
लीटर पी टर हो के गायी
उहे अनिद्रा सब पर लायी।
केहु का जल से घंट सिंचाई
यदि सुन फिलिया तनिक बुझाई।
आ बोली मुँह से ना बहिराई
श्रोता तब न सकी सुन बहरी।
जर से पहिला जर मिट जाई
ज्वार कविन का मन में आई।
ट्रेन धरे खातिर सब धवरी
कुशीनगर में छबि सज नवरी॥

केहु कवि हथिया महा भयावन
केहु कवि मघा मेघ झरि लावन।
श्रोता रूप पपीहा खातिर
कुछ कवि स्वाती बूँद सुहावन।
यदि बढ़ियाँ संयोग तुलाई
मोती के दरसन हो जाई।
भोजपुरी खातिर मन तरसी
चन्द्रशेखर के द्रोपदी परसी।
केहु पुख सहित वाण कवि आई
ओकरा अस नी के भ्रम छाई।
कि अदरे में कमी बुझायी
खीसिन मिरगी सिरा कँपायी।
बरस परी आ गरज सुनायी
केहु भर नीके चख जल लायी।
पूर्वा पर जे ना चित राखी
ए कृति का ऊपर का भाखी।
केहु उतरा के अर्थ लगायी
सगरो छिन भिन करी कमायी ।
हम बसन्त के बनब बनवरी
कुशीनगर में छबि सज नवरी॥

केहु अनुराधा मँगलकारी
आ के पूरा मँच सँवारी।
सँचालक कवि शाखा आपन
करिहें यदि निशंक संस्थापन।
नीमन श्रोता लोग परायी
सभा न उहाँ पुनर्वस पायी।
केतनो केहु करी चिरौरी
कुशीनगर में छबि सज नवरी॥

श्रवण मूल आशय अपनायी
उहे राति में घर से आयी।
सम्मेलन यदि उतरी सही
रस से अभिजित ना केहु रही।
बुद्धि घनिष्ठा पाले परीं
त शतभीखा से पेट न भरी।
रहनि ज्येष्ठा ना यदि आयी
त डरे वतीरा ना रहि पायी।
अवरी सब का देखी देखा
हम ना लिखबि कविता अस लेखा।
बनबि मँच पर तीस फरवरी
कुशीनगर में छबि सज नवरी॥

ऋतु वसन्त के हवे प्रथम दिन
सरस्वती देवी के पूजन।
छबिस तीस वाली गोष्ठिन के
एही में बाटे आयोजन।
आज मार के जन्म दिवस ह
राष्ट्रपिता स्वर्गमन दिवस ह।
आज निराला पुण्य जयन्ती
श्रद्धान्जलि उनहूँ का सन्ती।
कई पर्व के नाधल दँवरी
कुशीनगर में छबि सज नवरी॥
---------------------------------------
धरीक्षण मिश्र
जन्म: 1901, बरियापुर, कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
मरन: 24 अक्तूबर 1997, बरियारपुर, कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
भाषा: हिंदी, भोजपुरी
विधा : कविता
रचना: धरीक्षण मिश्र रचनावली (चार खंड), शिव जी के खेती, कागज के मदारी, अलंकार दर्पण, काव्य दर्पण, काव्य मंजूषा, काव्य पीयूष
सम्मान: अंचल भारती सम्मान, भोजपुरी रत्न अलंकरण, श्री आनंद सम्मान, गया प्रसाद शुक्ल ‘सनेही’ पदक, प्रथम ‘सेतु सम्मान’, भोजपुरी रत्न

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.