पानी-पानी हो गइल बा - भावेश अंजन

जवन पानी से पानी-पानी हो गइल बा

बहुत बरिस पर आइल पानी
बहत बा बहे दीं
हर-हर के आवाज लगावत
गंगा-गंगा कहे दीं

मन मसोस, मोबाइल रोवत
बार-बार ऊ चार्जर बा टोवत
कोठी वाला सेल्फी खिंचत
मड़ई के भी रहे दीं

आसमान के रहे निहारत
सुखत देखि करेजा फाटत
हाथ जोरि के करत निहोरा
बरसीं मति अब रहे दीं

समय के बरखा नीमन लागे
दुख-दलिदर सब अलगे भागे
बिजली रानी,अब पानी पानी
अब हमनियो के लहे दीं
------------------------

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.