मेघगीत - अनिरूद्ध

जब जब पुरवइया संदेसवा पठावे
बदरवा ई दउर दउर आवे
काजर कर साँवर बदरवा ई दउर दउर आवे॥

बिलमावे केहू ना,मारे जादो मंतर
परदेसी घर आवे,उमड़त हर गाँव डगर
अइसन प्रेमी केहू दीठ ना लगावे॥

तिरिछे लखि बिजुरी,घन घुंघुटा अइसे ताने
साजन से जइसे रूसल गोरी ना माने
बिंदिया चमके बुँदिया झाँझर झमकावे॥

दादुर ढोलक ढमके, झनके झिंगुर सितार
बादर के मादर प गावे मौसम मल्हार
सोहर-झूमर -कजरी खेत-खेत गावे॥
----------------------------------------

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.