मामा इमिली घोटावेलन - विद्या शंकर विद्यार्थी

मामा ना इमिली घोटावेलन, लिहले हाथ में लोटनिया
बेचबऽ का मामा आज बोलऽ ना,
किया आपन तूँ भगिनिया .. ।

सब दिन रखलऽ हियरवा के तरे
आजू ना भगिनिया नैन लोर ढरे
बोलऽ ना मामा कुछ बचनिया, लिहले....।

माई कुहूँकत बाड़ी बोलत ना बाड़ी
केवड़ा फाँक के त भगिनिया हो ठाड़ी
रिश्ता के कइसन ई कहनिया, लिहले...।

तुलसी पुजाइल बाड़ी बीचे अँगनवा
शिव जी के पुजल गइल बैला वहनवा
सटत नइखे सोच में पपनिया, लिहले...।
---------------------------------------
लेखक परिचयः
नाम: विद्या शंकर विद्यार्थी
C/o डॉ नंद किशोर तिवारी
निराला साहित्य मंदिर बिजली शहीद
सासाराम जिला रोहतास (सासाराम )
बिहार - 221115
मो. न.: 7488674912

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.