चुनाव के राव जाता - विद्या शंकर विद्यार्थी

चुनाव के नाव जाता
चुनाव के ताव जाता।

के बा बराबर में अड़ी
बरियार बिनाव जाता।

पैंतरा प के बा टिकी
चुनाव के भाव जाता।

बोल मोल प के ठहरी
हिम्मत अजमाव जाता।

शहर गाँव में बस हम
चुनाव के छाँव जाता।

घावके व्यथा तब लेसी
तीर निशान ठाँव जाता।

मर्द बासे पंजा मिलावे
चुनाव के राव जाता।
---------------------------------------
लेखक परिचयः
नाम: विद्या शंकर विद्यार्थी
C/o डॉ नंद किशोर तिवारी
निराला साहित्य मंदिर बिजली शहीद
सासाराम जिला रोहतास (सासाराम )
बिहार - 221115
मो. न.: 7488674912

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.