शरद कुंडल - अनिरूद्ध

खंजन रितु दूत नयन अंजन सुखदाई
उतरल चढ़ हंस शरद स्वागत अगुआई॥

महके झर हरसिंगार, भिनुसहरा प्यारा
लाल तली चाँदी, कनफूल कि सितारा॥

पथ खुले दसो दुआर पंथी अगराइल
सोखे संताप शरद, व्याधि सीा पराइल॥

बाजे चुलबुल बिहान, प्राती धुन वीणा
भोर लुटावे बिंदिया रात के नगीना॥

खिलल कास पावस नभ धो चले बुढ़ाए
निरमल नभ नील नयन माटी मुसुकाए॥

फुदुक-फुदुक पंछी वन प्रान में समाइल
रितु-राधा अँखियन, घनश्याम अब लुकाइल॥

दुधिया चुनरी कुंडल कनक किरन झूले
नीलम नभ छत्र घाम पियरी कटि भूले॥

हिमकन मोती माला, शीत बरे हीरा
नाचत घुँघरू टूटल, भोर लगे मीरा॥

चमकत जल-देश रहे, मीन-मन पिरितिया
अनगिन अँखिया नहाय, दूध से धरतिया॥

नील रतन जल चाँदी दरपन जड़ जाए
गगन उतारे नदिया, ताल उतर जाए॥

बिछुड़ल घनश्याम, लोर-भुँइ जसुदा माई
बा झरल पसेना-मनि मेहनत-गुन गाईं॥

फुर-फुर उडत्र जाय विहग, नयन अँटकि जाए
टिटिकारत बैलन के कवन झटकि जाए॥
----------------------------------------
शरद कुंडल - अनिरूद्धअनिरूद्ध


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.