धरहरिया - प्रकाश उदय

हउ देखऽ, धइलसआ माचिस में कइ देलस बंद अगिनदेव के।।
देखऽ कि छँउकल आ धइ लेलस चान।।
धइले बा अँगुरी के टिपला में बिजुरी के सब-सब टिपवान।।
कि जवना के धुन धइलस, धइ लेलस धउरा के।।
जूता धरवा लेलस चउकठ के बहरा आ मंदिर में धइलस भगवान।।

आ हइ देखऽ, धइ लेले 'धवकल', नापत में आपन जब टोपरा बिगहिया,
'धरिछना' के तीन धूर धरती, धइलस धरिछना जरीब।।
हूरा के पँजरी में, पटकन के पीठ प,
मुकवसला-लतवसला के जहाँ तहाँ धइलस गरीब..।।
आ देखऽ कि केहू ना धइल धवकल के बाँह, केहू ना कइल धरहरिया।।

केहू ना धइल धवकल के बाँह, त दाँते से धइलस धरिछना।।
त पाछे से धइलस 'फरिछना'।।
त आगे से से धइलस धवकल के लटकन,
धरिछना के भउजी, लटक गइलस बिहुनी।।

हइ देखऽ ...हइ देखऽ ...दाँते धराइल बा तीन धूर धरती।।
तीन धूर धरती पछवड़िए धराइल बा।।
तीन धूर धरती धइ लटकल बिया हइ धरिछना के भउजी।।
का चाहीं अउरी।।

अब सब धरहरिया में धउरी।।
धउरी त धउरी, ना धउरी नउजी।।
धउरो, धरो जाके चान।।
तीन धूर धरती हमार।।
---------------------------------------------
धरहरिया - प्रकाश उदय लेखक परिचय:-
नाम: प्रकाश उदय
जन्म : 20 अगस्त 1964, बनारस (उत्तर प्रदेश)
भाषा : हिंदी, भोजपुरीविधाएँ : कविता, आलोचना
संपर्क:- श्री बलदेव पी.जी. कॉलेज, बड़ागाँव,
वाराणसी-221204 (उत्तर प्रदेश)
फोन: 094152 90286
ई-मेल udayprakash1964@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.