लोकतंत्र के गरूर - मोती बी.ए.

ना रहि गइल कवनो चीजु पास
ना रहि गइल कवनो बाति खास
हो गइली एकदमे बेनकाब
आर-पार एकदम परदाफास।

ना कवनो बू ना कवनो बास
पूरा पूरा परदाफास
ना कवनो चिन्ता ना कवनो लाज
चाहे आम होखे भा खास।

चाहे चना होखे चाहे घासि-पात
जेकरा मन करे आवे
जहवाँ चाहे जाउ
हमके खएफा के अलावे।

कवनो चीजु के नइखे तलब
ना तब रहे ना अब
बाति एकेगो रहि गइल बा
खाली लोकतंत्र के गरूर
मतदान के दीने
वोट डालेबि जरूर।
---------------------------------------
मोती बी.ए. - मैनामोती बी.ए.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.