इतराइल बा - मिर्जा खोंच

उ ओतने में इतराइल बा
पीएच-डी कर के आइल बा

हम साँच बात जे कह देनी
ऊ हमरा से खिसिआइल बा

भऊजइया चपत लगइलस का
मुहवाँ काहे मुरझाइल बा

बन भइल कमीसन जे दिन से
मन ओ दिन से मरुआइल बा

पत्नी भागल, भागल बाकिर
ऊ अपने कहाँ लुकाइल बा

जे जेतना में बाते मिर्जा
ऊ ओतने में अझुरालाइल बा
---------------------------------
इतराइल बा - मिर्जा खोंचमिर्जा खोंच
साभार: भोजपुरी जिनगी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.