मति करऽ राम वियोग

मति करऽ राम वियोग सिया हो, मति करऽ राम वियोग।

सुतल रहनी कंचन भवन में, सपना देखली अनमोल।
सिया हो मति करऽ राम वियोग।

अमृत फल के बाग उजरले राम लखन के दूत।
सिया हो मति करऽ राम वियोग।

पूरी अयोध्या से दोउ बालक अइले, एक सांवर एक गोर।
सिया हो मति करऽ राम वियोग।

बाग उजरले लंक जरवले, दिहले समुंदर बोर।
सिया हो मति करऽ राम वियोग। 
-------------------------------------------
मति करऽ राम वियोग
 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.