हम त शहर में गाँव के जिनिगी बिताइले - डॅा० जयकान्त सिंह 'जय'

हम त शहर में गाँव के जिनिगी बिताइले
मनमीत जहँवाँ पाइले हहुआ के जाइले

भाई भरत के भाव मन में राम रूप ला
सत्ता के लात मार के नाता निभाइले

रीढ़गर कहीं झुकेला त सीमा साध के
सुसभ्य जन के बीच हम बुरबक गिनाइले

धवल लिवास देह पर, बानी बा संत के
करतूत उनकर जान के हम गुम हा जाइले

कामे केहू का आईं त होला बहुत सबूर
भलहीं भरोस आन पर कर के ठगाइले


जेकर ईमान ताक पर बा ओकरे घर खुशी
तंगी हम ईमान के अपना बँचाइले

लिहले लुकाठी हाथ में लउकित कहीं कबीर
जेकरा तलाश में हम पल-पल ठगाइले

‘जयकान्त’ जय विजय के भरोसा का हम कहीं
अपजस में जस के दीप हम हर दिन जराइले 
---------------------------------------------------------------
लेखक परिचय:-
नाम: डॅा० जयकान्त सिंह 'जय'
जनम: 1 नवम्बर 1969, मशरक बिहार
बेवसाय: भोजपुरी विभागाध्यक्ष
एल एस कॉलेज, मुजफ्फरपुर, बिहार

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.