संपादकीय

जब ले मितवा मोर भइल बा - आसिफ रोहतासवी

जब ले मितवा मोर भइल बा

दुनिया-राजे सोर भइल बा.

हँसले बा अपना पर अतना
भर-भर आँखिन लोर भइल बा.

हमरे अँगना रैन-बसेरा
उनका सब दिन भोर भइल बा.

ऐनक में खुद के चुचुकारे
घाहिल चिरई-ठोर भइल बा.

जनहित, बस, अस्टंट सियासी
‘सत्ता’ ला गठजोर भइल बा.

‘आसिफ’ के फिकिरे दुबराइल
जब ले आदमखोर भइल बा.

------------------------------------
अंक - 43 (1 सितम्बर 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.