संपादकीय

सात गो हाइकु - आर. डी. एन. श्रीवास्तव

1
त का करतीं
फेनु बेटिये रहे
काहें धरतीं?
--------------
2
बाल क खाल
छोड़s अब नोचल
कहs का चाहीं ?
--------------
3
बुढ़वा पापी
घुसि जाई चुहानी 
चुल्हिये तापी ।
--------------
4
का हो गइल?
बेटी भागि गइल?
नीक भइल।
--------------
5
बेटा बेचलs
शान! अपमान हs
बेटी बेचल।
--------------
6
तुमहूँ हारा
जीता तो हमहूँ ना
दूनू बेचारा ।
--------------
7
कवि नादान
उठs, लिखs, हाइकु
चल जापान ।
--------------

लेखक परिचय:- 

नाम: आर डी एन श्रीवास्तव 
जनम: 10 दिसम्बर 1939 
जनम थान: ग्राम - बैरिया, पो - रामकोला 
जनपद कुशीनगर उत्तर प्रदेश 
शिक्षा: एम ए (अंग्रेजी साहित्य) 
संप्रति: प्रधानाचार्य (सेवानिवृत्त)
रचना: थाल में बाल, लेट द विण्डो बी ओपेंड (अनुबाद) आदि 
संपर्क: जी - 3/22, रेल विहार फेज - 2
राप्तीनगर फेज - 4, चरगावाँ, गोरखपुर 
मो नं: 9451518429, 7704029571
अंक - 75 (12 अप्रैल 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.