संपादकीय

में धनि बारी हो

आरे में धनि बारी हो, गवने ना जाइबि रामा॥1॥

में धनि बारी हो।
आरे गवने में जाइबि, पर सेजिया न सोइबि रामा॥2॥

में धनि बारी हो।
आरे सेजिया पर सोइबि, पर सा इयाँ से बोलबि रामा॥3॥

में धनि बारी हो।
गवने ना साइबि रामा, में धनि बारी हो॥4॥
----------------------------------
अंक - 76 (19 अप्रैल 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.