विविध

मधु के महिनवा

काहे भंवर भरमाइल हे ननदी। मधु के महिनवा॥
बगियन-बगियन फुलवा फुलाइल
देखि भंवर भरमाइल हे भउजी। मधु के महिनवा॥

काहे पवन बउराइल हे ननदी। मधु के महिनवा॥
उतरल कटक बसंत राज के
देखि पवन बउराइल हे भउजी। मधु के महिनवा॥

काहे नयेन मधुआइल हे ननदी। मधु के महिनवा॥
निरखि-निरखि सोभा बसंत के
नयेनन भर आइल हो भउजी। मधु के महिनवा॥

काहे बदन अलसाइल हे ननदी। मधु के महिनवा॥
रीतु पति राज सुमन सर मारत
बेधत बदन अलसाइल ए भउजी। मधु के महिनवा॥
------------------------------------
अंक - 76 (19 अप्रैल 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.