संपादकीय

केहू-केहू का होखे राम नाम के चरचा - मास्टर अजीज

केहू-केहू का होखे राम नाम के चरचा


कहीं-कहीं चढ़ल बाटे घरे-घरे घरे-चरचा,
केहू-केहू का, जोड़ाता रात-दिन के खरचा।

घोंसरिये में निकलल बा घर-घर के लरछा,
केहू-केहू का, निकले आपसे में बरछा।

गाँवे-गाँवे बाँटल जाला खेतवे के परचा,
केहू-केहू का, मिले पिये के ना तरछा।

पूरबी का चूक से सोहात नइखे चरचा,
केहू-केहू का, जइसे धूकल जाला मरिचा।

‘मास्टर अजीज’ गावस रामनाम के चरचा,
केहू-केहू का, फाटल मिलत नइखे गमछा।
------------------------------------
मास्टर अजीज
अंक - 77 (26 अप्रैल 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.