विविध

चइत पिया अइहें - महातम मिश्र 'गौतम'

सखी मन साधि पुरइबे हो रामा। चइत पिया अइहें

ननद जेठानी के ताना मेंहणा
नाहीं पिया भेद बतईबे हो रामा॥ चइत पिया अइहें..... 

अनिवन बरन जेवनार बनईबे,
सोनवा की थाल जिमइबे हो रामा॥ चइत पिया अईहें......

पनवा गिलौरी लवंग इलायची
बिरवा इतर लगइबे हो रामा॥ चइत पिया अईहें......

सोरहों शृंगार साधि सेजिया पर
आभा मुख दुलरइबे हो रामा॥ चइत पिया अईहें.....
-----------------------
महातम मिश्र 'गौतम'
अंक - 76 (19 अप्रैल 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.