विविध

माटी के अँजोर - जितराम पाठक

सूप भरि रूप के
सनूख भरि सोहुआ में
सानल सनेहिया सलोर
आन अवरू अपना के
नेह-नाता गरगट
लहना के बाटुरे बटोर।

सोनवा के जाल में
घेराइल सारी दुनिया
योग के वियोग में पेराइल सारी दुनिया
किरन के बान
केहू मारेला अनेरिया
माटी के सुवास छिलरावेला अहेरिया
देहिया के नाता नधले बा
झकझोरिया
अन्हरा के आँखि में उगल बा अँजोरिया
माटी के सुवास मीठ
काँट लेखा हरके
मन अँउजाला
त पराये लागे फरके
आपन कहाइ के
बुझात बाटे आन अस
कवल करेजवा कठोर।

कहीं बाटे बाढ़ि
कहीं तिल-तिल छीजना
हरि के हुलास से
सँवारल सिरिजना
सून बा सरगवा
ई झूठहीं उतान बा
मिटउ महुरवा के कतना गुमान बा
मनवाँ
अनेरे मटिए में लपटाता
घूमि घूमि
एकेरे में आइ के समाता
जल ना सहाला
जंजाल नीक लागे
मटिए के देवता सुभाव नाहीं त्यागै
जेकरा बुझाइ ऊहो बसे बैकुण्ठवा में
हमरा त माटी के अँजोर।
-------------------------------------

लेखक परिचय:-

नाम: जितराम पाठक
जन्म: 2 दिसंबर 1928
जन्म स्थान: चन्द्रपुरा, हवेजपुर, भोजपुर, बिहार
अंक - 73 (29 मार्च 2016)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.