संपादकीय

घतिया छिपल बाटै - राम जियावन दास 'बावला'

मीठी-मीठी बतिया में घतिया छिपल बाटै,
जतिया क पतिया क होत बा लड़ाई।

कुल्हियै इनरवा में भंगिया घोराइ गइले 
मनई से मनई करैला निठुराई।

दागि-दागि पेटवा चपेटवा सहत जात 
दिनवा गरीब क न भेंटले - भेंटाई।

उँचकी अटरिया के ओर सब निरखैला 
निचवां न ताकैला धँसल जाले खाई।।
---------------------

लेखक परिचय:-

नाम: राम जियावन दास 'बावला'
जनम: 1 जून 1922, भीखमपुर, चकिया
चँदौली, उत्तर प्रदेश
मरन: 1 मई 2012
रचना: गीतलोक, भोजपुरी रामायण (अप्रकासित) 
अंक - 58 (15 दिसम्बर 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.