विविध

धूरिया लपेट के फिरैलैं बम भोला

पग पग धरती सिवनवा क नापइ

देहियाँ क सुधि नाहीं फटहा झिंगोला।

तपनी थिथोर होय सँझवा के दर दर
बुढ़ऊ क कहनी सोहाय भर टोला।

उँखिया क रस कोल्हुवड़वा बोलावइ
गुड़वा सोन्हाय त उमगि जाय चोला।

गँवई क गाँव जहाँ दिन भर चाँव माँव
धूरिया लपेट के फिरैलैं बम भोला।।
---------------------------

लेखक परिचय:-

नाम: राम जियावन दास 'बावला'
जनम: 1 जून 1922, भीखमपुर, चकिया
 चँदौली, उत्तर प्रदेश
मरन: 1 मई 2012
रचना: गीतलोक, भोजपुरी रामायण (अप्रकासित)
अंक - 49 (13 अक्टूबर 2015)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.