विविध

चिहुँकेली बार-बार अँचर उतार चले

चिहुँकेली बार-बार अँचर उतार चले
बे हँसी के हँसी पति देख कहँरी।

मार-मार हलुआ निकाले ऊ भतरऊ के
डाँट के बोलावे कोई बात में ना ठहरी।
घरे-घरे झगड़ा लगावे झूठ साँच कहं
भूँजा भरी फाँके चुप्पे फोरे आपन डेहरी।
गारी देत बूढ़वा भतार के तो बार-बार
कहत महेन्द्र अबो चूप रह रे ढहरी।

------------------------------------------------------------------------------
<<< पिछिला                                                                                                                       अगिला >>>

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैना: भोजपुरी साहित्य क उड़ान (Maina Bhojpuri Magazine) Designed by Templateism.com Copyright © 2014

मैना: भोजपुरी लोकसाहित्य Copyright © 2014. Bim के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.